मुनिबा मज़ारी Biography of muniba mazari in hindi

struggle of muniba mazari in hindi, struggle story in hindi , biography, muniba mazari’s life in hindi ,muniba mazari biography in hindi मुनिबा मज़ारी एक ऐसी औरत हैं जिनको पाकिस्तान की Iron lady कहा जाता है। इसके अलावा वे UN में पाकिस्तान कि national ambassador हैं British News Agency BBC ने साल 2015 में उनको अपनी 100 women सीरीज में शामिल किया। इसके अलावा फोर्ब्स मैगजीन ने 2016 में 30 साल से कम उम्र की world की 30 personalities में शामिल किया।

मुनिबा मज़ारी आज एक मज़बूत और जानी मानी शख्शियत है पर क्या वे हमेशा से ऐसी ही रही हैं ?नहीं वे हमेशा से ऐसी नहीं थी। आज जो मुनिबा मज़ारी आपके सामने हैं उनको यहाँ तक पहुँचने के लिए एक लम्बा और दर्दनाक रास्ता तय करना पड़ा है। मुनिबा मज़ारी कि ये दर्दनाक कहानी आपके रोंगटे खड़े कर देने वाली है ये इतनी inspirational है कि मुर्दे में सांसें फूक दे तो आइये जानते हैं इस कहानी को….

कौन है मुनिबा मज़ारी ? (Biography of muniba mazari in hindi )

मुनिबा मज़ारी ने 3rd मार्च 1987 को एक पाकिस्तान के एक बलोच परिवार में जन्म लिया। उनके पिता ने करीब 18 वर्ष कि आयु में उनकी शादी करने का फैंसला किया और ये फैंसला मुनिबा को मानना पड़ा। क्योंकि अच्छे घर कि लडकियां माता पिता के फैंसलों के खिलाफ नही जाया करती। शादी के बाद उनकी life बहुत अच्छी नही रही।

एक बार वे अपनी कार में अपने पति के साथ कहीं जा रही थी। कार चलाते समय उनका पति सो गया जिससे कार बेकाबू हो गयी और कार का एक्सीडेंट हो गया। एक्सीडेंट से पहले उनका पति गाड़ी से कूद गया पर वे गाड़ी के अंदर ही रह गयी।

मुनिबा का जीवन संघर्ष (struggle of muniba mazari )

वे इस दुर्घटना में बुरी तरह घायल हो गयी। उनका एक्सीडेंट एक सुनसान जगह पर हुआ था जिस की वजह से medical help भी उन्हें time से नही मिली ।लेकिन देर से ही सही उन्हें hospital पहुँचाया गया …

उनकी जान तो बच गयी लेकिन डॉक्टर ने उन्हें बताया कि उनके हाथ ,पैर,बैक बोंन और रिब केज की कई हड्डियों में जबरदस्त fractures हुए थे। जिसकी वजह से lungs और lever जैसे ओर्गंस भी injured थे।

डॉक्टर्स आते और कोई बुरी खबर मुनिबा को सुते जाते पहला झटका जो डॉक्टर्स ने मुनिबा को दिया वो ये था कि उनकी spinal chord का निचला हिस्सबुरी तरह से damage हो चुका था।Biography of muniba mazari in hindi जिसके कारण उनकी बॉडी का कमर से निचला हिस्सा paralytic हो गया और इस वज़ह से वो कभी अपने पैरों पर कड़ी नही हो पाएंगी और उनको अपनी बाकि ज़िन्दगी व्हीलचेयर पर ही बितानी पड़ेगी।

मुनिबा आर्टिस्ट बनना चाहती थी। अपने एक्सीडेंट से पहले वो पेंटिंग किया करती थी। इसलिए दूसरा झटका उन्हें तब लगा जब doctor ने उनको कहा कि अपनी injured कलाई कि वजह से वो अब कभी भी पेंटिंग नही कर पाएंगी। इन दोनों झटकों का मुकाबला किया मुनिबा ने और खुद को टूटने नही दिया

…ये सब बातें जान कर भी मुनिबा मज़ारी का हौंसला नही टूटा लेकिन वो उस दिन टूट कर बिखर गयी जब डॉक्टर ने उन्हें बताया कि बैक बोंन में हुए fractures कि वजह से वो कभी माँ नही बन पाएंगी उस दिन वो बहुत रोई अपने अल्लाह से सवाल करने लगी कि आखी र क्यूँ उनके साथ ही ऐसा क्यों हुआ

पति ने छोड़ा साथ Biography of muniba mazari in hindi

इन मुश्किल हालातों में जब मुनिबा को अपने पति और परिवार का साथ बहुत ज़रूरी था। ऐसे मुश्किल समय में अपाहिज होने कि खबर सुन कर उनके पति ने उनको तलाक दे दिया। पति के साथ ही उनके पिता ने भी उनसे रिश्ते तोड़ लिए । अब इस कठिन समय में उनके साथ सिर्फ और सिर्फ उनकी माँ थी

वे अपनी माँ से पूछा करती थी कि उनके साथ ही ऐसा क्यों हुआ और इतने बुरे हाल के बाद भी वो जिंदा ही क्यों हैं। उनकी माँ उनकी हौन्स्लाफ्जायी करती और कहती कि एक दिन सब ठीक होगा।

उसने पेंटिंग शुरू की

इतनी सारे incidents के बाद भी उन्होंने हिम्मत नही हारी खुद को संभाला और तय किया कि इस घुटन से बाहर निकलने के लिए वे पेंटिंग करेंगी। और उन्होंने फिर से अपनी Black and White ज़िन्दगी में रंग भरना शुरू किया जो दुःख दर्द और तकलीफें उनके जहन में थी मुनिबा ने उन सभी भावों को कैनवास पर उतरना शुरू कर दिया। hospital में जो लोग आते वो पेंटिग्स को पसंद तो करते थे पर उनके पीछे छुपे गहरे दुःख को कोई नही देख पाता।

2.5 महीने hospital के बिस्तर पर और दो साल घर के बिस्तर पे बिताने के बाद मुनिबा को समझ में आया कि उन्हें किसी और के लिए नही बल्कि खुद के लिए जीना है। उसने महसूस किया कि परफेक्ट न होने का डर उसे अपने दिमाग से बाहर निकलना ही होगा। उसे खुद को मज़बूत बनाना होगा।

बाहर की दुनिया से किया सामना

एक वक़्त इतनी depressed थी मुनिबा मज़ारी कि बाहर के लोगों का सामना करने से डरती थी। लेकिन जब उन्होंने अपने डर का सामना करना सीख लिया तो व्हीलचेयर पर बैठे होने के बाद भी पाकिस्तान के national TV के लिए एंकर बनी।

धीरे उनकी बनायीं पेंटिंग्स famous होने लगी उनकी कला के साथ साथ उन्हें भी दुनिया में पहचान मिलने लगी ।व्हीलचेयर पर होने के बावजूद मुनिबा मज़ारी एक सफल आर्टिस्ट हैं वे एक बेहद चर्चित motivational speaker हैं अपनी Deform बॉडी के साथ भी वे एक सफल मॉडल हैं।

माँ भी है मुनिबा

मुनिबा को डॉक्टर्स ने कहा कि वो कभी माँ नही बन सकती है और काफी समय तक इस बात ने उन्हें बहुत परेशां भी किया ।लेकिन धीरे धीरे उन्हें ये बात समझ आ गयी कि माँ बनने के लिए सिर्फ किसी बच्चे को जन्म देना भर ज़रूरी नही होता। दुनिया में बहुत ऐसे अनाथ बच्चे हैं जो माँ कि ममता के हक़दार है तो क्यों न उनकी माँ बना जाये।

ऐसा सोच कर उन्होंने पाकिस्तान के एक अनाथालय से एक दो दिन का baby boy गोद लिया हालाँकि ये भी उनके लिए आसान नही रहा। क्यों कि इसके लिए पहले किये गए प्रयासों में कई अनाथालयों ने उनकी physical condition देख कर उन्हें बच्चा गोद देने से मना कर दिया था। पर finally वे इसे कर पाई

ये पूरा article यदि आप पढ़ चुके हैं तो आपको पता चल ही गया होगा कि क्यों उनको iron lady कहा जाता है। एक lady जो खुद चलने, खड़े होने में असमर्थ है जिसकी body deform है। लेकिन हौंसले लोहे की तरह मज़बूत है वो सच में iron lady हैं।

ये पूरी जीवन कहानी स्वयं उनके द्वारा एक you tube video में बताई गयी है। मुनिबा मज़ारी का ये struggle यदि आपको पसंद आया हो तो please अपनी family और friends के साथ इसे share ज़रूर करें धन्यवाद…..

read more

Struggle life quotes in hindi (70+ प्रेरक वाक्य )

संगठन में शक्ति Power Of Unity

Power Of Determination अद्भुत है संकल्प की शक्ति

विश्वास की ताकत को पहचानें Power of self belief

Power of Gratitude कितने फायदे है Gratitude के

Motivational Quotes About Life ज़िन्दगी के बारे में मोटिवेशनल कोट्स

Share On Social media!

Leave a Comment